सहर

सुबह की धूप बादलों के बीच में 
कुछ ऐसे ठहर गयी
जैसे किताब के पन्नो में 
छुपे है कुछ बीतें लम्हे
और बचपन की यादें।

BRIJ BARI

HELP

CONTACT

  • Instagram
  • Facebook

STAY UPDATED!

@2019 BY BRIJ BARI COPYRIGHT